THE BEST FLIM – दुनिया की सबसे अच्छी फिल्म

Published by Dakshya on

THE BEST FLIM IN THE WORLD.

एक बार एक थिएटर में 10 मिनट की फिल्म लगी। उसे दुनिया की द बेस्ट फिल्म कहा जाता था उसे बहुत ही नेशनल इंटरनेशनल अवार्ड भी मिला हुआ था। तो इस फिल्म को हर कोई देखना चाहता था। बहुत सारे लोग उस फिल्म को देखने के लिए आए। अपने अपने जगह पर बैठ गए और फिल्म शुरू हुई।

पहले सीन में एक घर की सीलिंग को दिखाया गया। लोग बहुत ध्यान से देख रहे थे क्योंकि बहुत एक्साइटेड थे इतनी अच्छी फिल्म है दुनिया की, द बेस्ट फिल्म कहां जाता है । पता नहीं क्या होगा इस फिल्म के अंदर। 

1 मिनिट पूरी हुई 2 मिनट पूरी हो गई लेकिन वह फ्रेम चेंज ही नहीं हुई ,सिन चेंज ही नहीं हुआ। लोग आसपास देखने लगे, सोचने लगे कि क्या यह फिल्म चिपक गई है, मतलब कोई Technical problem  तो नहीं मतलब कुछ बदल क्यों नहीं रहा है । 

3 मिनट हुई 4 मिनट हुई 5 मिनट हुई अब लोग frustrated हो रहे थे गुस्सा हो रहे थे आसपास देख रहे थे चिल्ला रहे थे कि यार हो क्या रहा है, मजाक चल रहा है क्या। 6 मिनट हुई 7 मिनट , 8 मिनट हुए , 9 मिनट पूरी हो गई लेकिन वह फ्रेम चेंज ही नहीं हुआ । अभी भी पर्दे पर वही सीलिंग का ही फ्रेम चिपका हुआ है। वही सीलिंग सीन चिपका हुआ था।

 अब लोगों का गुस्सा काबू से बाहर जा रहा था। लोग जोर-जोर से गालियां देने लगे । फ्रोस्टेड हो गए थे, तोड़फोड़ करने लगे। बहुत सारे लोग  theatre छोड़कर निकलने लगे, तभी फ्रेम चेंज हुई और इस सिन में एक बंदा हॉस्पिटल की बेड में लेटा हुआ था और ऊपर देख रहा था। यह देख कर थिएटर में सन्नाटा छा गया उसके बाद फिर से फ्रेम चेंज हुई। उसके बाद फिर से वही सीलिंग वाली फ्रेम आ गई.. नीचे लिखा गया था । 

नीचे लिखा था ।

आप लोग इस सिन को, इस दृश्य को 10 मिनट भी देख नहीं पाए.. आप गुस्सा हो गए.. आप फ्रोस्टेड हो गए.. अपने चिल्लाना शुरू कर दिया.. आपने अपना काबू खो दिये आप भागने लगे और यह बंदा जो बेड पर लेटा हुआ है वह कई सालों से वह सिर्फ यही देख रहा है और आने वाले पता नहीं कितने सालों तक यही देखेगा।

 -क्योंकि वह मजबूर है। वह आपकी तरह नजर भी घुमा नहीं सकता.. अपनी मर्जी से वह हिल नहीं सकता.. वह उठ नहीं सकता वह चल नहीं सकता.. वह गुस्सा नहीं हो सकता वह फ्रोस्टेड भी नहीं हो सकता केवल वह देख सकता है। आप 10 मिनट नहीं देख पाए वह इतने सालों से कैसे देख पाता होगा एक ही चीज को । सिर्फ अंदाजा लगाओ कि उसके दिल में कितना दर्द होगा.. कितनी घुटन होगी.. अगर आप अपनी मर्जी से नजर भी हिला सकते हो तो आप बहुत ज्यादा भाग्यशाली हो। अगर आप हिल सकते हो, अगर आप चल सकते हो, भाग सकते हो, किसी से बात कर सकते हो.. तो आप बहुत ज्यादा lucky हो… तो अपनी लाइफ का problem गिनना बंद करो .. क्योंकि प्रॉब्लम होती क्या है इसका अंदाजा तक नहीं है आपको ।  The end..
फिल्म खत्म हो गया । 

जितने भी लोग थिएटर में थे सब की आंखों में आंसू थे, कोई खुद को बहुत lucky समझ कर खुशी से रो रहा था, कोई उस बेड पर लेटे हुए बंदे की घुटन को उसके दर्द को महसूस करके रो रहा था। सबकी आंखों में आंसू थे।

THIS FLIM WILL MAKE YOU CRY BUT YOU LEARN SOMETHING VERY BIG.

Credit by :- Youtube: Jasstag 

Categories: Stories

0 Comments

Leave a Reply

Avatar placeholder

Your email address will not be published.