SIX WISE MEN- HINDI STORY | 6 ज्ञानी लोग | हिंदी कहानियां HINDI STORY FOR KIDS.

Published by Dakshya on


SIX WISE MAN
छेह ज्ञानी व्यक्ति 

एक दिन छेह ज्ञानी व्यक्ति एक साथ एक सफर पर जा रहे थे। उनके रास्ते में एक बहुत गहरी  नदी आई। उनके पास नदी पार करने के लिए कोई डोंगी नहीं था, कोई साधन नहीं था। इसीलिए वह लोग नदी के उस पार तेंर के चले गए। बो लोग अच्छे से सुरक्षित दूसरी तरफ पहुंच गए। 

 एक ज्ञानी व्यक्ति ने कहा “सब लोग ठीक हैं ” । 

और एक ज्ञानी व्यक्ति ने कहा “आ..ओ.. सुनिश्चित करें ” ।

प्रथम व्यक्ति ने सबको गिनना शुरू किया एक, दो, तीन, चार, पांच और अचंभित होकर कहा “अरे देखो  हमारे बीच में से एक लापता हो गया है ।” 

“तुम मूर्ख हो ”  दूसरे ज्ञानी व्यक्ति ने झट से कहा “मैं सुनिश्चित करता  हूं- तुम देखो- एक, दो, तीन, चार, पांच –  वै भी चकित रह गया- हां यार हम सिर्फ पंच लोग हैं। भगवान.. एक कहां लापता हो गया।” 

तीसरे व्यक्ति ने भी गिना और उसके बाद चौथे व्यक्ति ने भी गिना  ।  सब लोग दंग रह गए -“हां हम 5 लोग ही  है सिर्फ।” 

सब लोग नीचे बैठ गए और रोने लगे “हम में से एक डूब गया है।” उदास होकर-” हमारा प्रिय मित्र नदी में डूब गया। अब हम क्या करें?” 

कुछ देर बाद, इन ज्ञानी लोगों  में से जो मुखिया था वह कहने लगा- “हम लोग ने एक बुरे दिन में हमारा सफर शुरू किया इसलिए हम अपने एक मित्र को खो दिए । सब लोग अभी आगे सफर नहीं करेंगे, चलो वापस घर लौट चलते हैं।” यह बात पर बाकी सब लोग राजी हो गए। 

सारे ज्ञानी व्यक्ति नदी में तैर गए और जहां से आए थे, नदी   के उस किनारे पहुंच गए। उनके गांव के एक गरीब अनपढ़ व्यक्ति ने उन्हें देखा। उनके पास आया , उनको पूछा “क्या आप लोग अपने सफर पर नहीं जा रहे हैं।” 

मुखिया ने कहा “नहीं हम नहीं जा रहे हैं” हमने एक मित्र को खो दिया वह नदी पर ।  इसलिए हम लोग  वापस आ गए” 

अनपढ़ व्यक्ति- तुम लोगो ने किसे  खोया? 

“हमें नहीं पता। हम 6 लोग थे ,अभी सिर्फ 5 लोग हैं”

गांव के वह अनपढ़ व्यक्ति उन लोगों को गीन के कहा- “तुम लोग छेह थे,  पांच नहीं”  उसने सोचा  “यह लोग वास्तव में मूर्ख है”  उनमें से प्रत्येक ने खुद को छोड़कर केवल दूसरों की गिनती की इसीलिए उन्हें पांच तक ही गीन लिया । अब मैं उन्हें गिनना सिखाऊंगा”। 

फिर उसने उनसे कहा ” एक Line में खड़े हो जाओ। मैं गिनूंगा” 

वह गांव का व्यक्ति- पहला ज्ञानी व्यक्ति के पास गया, उसके सिर पर खटखटाया और गुना “एक”। उसने दूसरे ज्ञानी व्यक्ति के सिर पर खटखटाया और गीना “दो”। इस तरह से उसने छठे आदमी की सिर पर खटखटाया और गिना “छह”  

अनपढ़ व्यक्ति – “अभी तुमने देखा, तुम लोग छह हो ,पांच नहीं” 

“अरे.. तुम सही हो ! हम अभी छह लोग हैं ” उनमें से एक ज्ञानी व्यक्ति ने कहा। 

उन ज्ञानी व्यक्तियों में से जो मुखिया था वह कह पड़ा “अच्छा हुआ कि लापता आदमी वापस आ गया, अब चलो फिर से अपने सफर पर” 

#CreditEnglish Books

इसे भी पढ़ें

Click Here:- एक बुद्धिमान राजा की कहानी

Click Here:- ओडिशा के उदयगिरि खंडगिरि गुफाएं

Click here:- Kalaabati- एक लड़की की सच्ची कहानी


0 Comments

Leave a Reply

Avatar placeholder

Your email address will not be published.