Mulayam Singh Yadav Biography in HINDI – कैसे PM बनते बनते रह गए मुलायम सिंह यादव

Published by Dakshya on

भारत दुनिया का सबसे बड़ा लोकतांत्रिक देश है। 1947 में स्वतंत्रता मिलने के बाद यहां 200 से भी अधिक राजनीतिक पार्टी की गठन हुई है। आज भी बहुत सारे राजनीतिक पार्टी सक्रिय है। और उन राजनीतिक पार्टी के बड़े-बड़े दिग्गज नेता अपने योगदान दे रहे हैं।

दोस्तों आज हम बात करने वाले हैं भारत के दिग्गज नेताओं में से एक और समाजवादी पार्टी के संस्थापक मुलायम सिंह यादव के बारे में। हम आपको बता दें मुलायम सिंह यादव पूर्व केंद्र मंत्री बन चुके हैं इसके अलावा कई बार उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री पद भी संभाल चुके हैं।

मुलायम सिंह अपनी राजनीतिक जीवन में अपना एक अलग पहचान बनाए हैं। वह लोगों के दिलों में अपना एक अलग जगह बनाए हैं। हालांकि  वह अपने राजनीतिक जीवन में कई सारे विवादों में रहे हैं।

Mulayam Singh Yadav Biography
Mulayam Singh Yadav

Table of Contents

मुलायम सिंह यादव जीवन परिचय – Mulayam Singh Yadav Biography

दोस्तों मुलायम सिंह यादव का जन्म भारत को स्वतंत्रता मिलने से पहले 22 नवंबर 1939 को उत्तर प्रदेश के इटावा जिले के सैफई गाँव में हुआ था. उनके पिता का नाम सुधर सिंह है, और माता का नाम मूर्ति देवी है। मुलायम सिंह यादव के पांच भाई बहन भी है। जिनके नाम रतनसिंह, शिवपाल सिंह यादव, रामगोपाल सिंह यादव , अभयराम सिंह, और कमला देवी है. भाइयों में मुलायम सिंह यादव तीसरे नंबर पर आते हैं.

मुलायम सिंह यादव शिक्षा

मुलायम सिंह यादव अपने प्राथमिक शिक्षा पूरी करने के बाद इटावा जिले के K.K College से  ग्रेजुएशन की और आगरा के भीमराव अंबेडकर कॉलेज से राजनीति शास्त्र में M.A. की शिक्षा प्राप्त की है.

मुलायम सिंह यादव परिवार

मुलायम सिंह यादव ने दो विवाह किए थे उनके पहले पत्नी का नाम है मालती यादव और दूसरी पत्नी का नाम है साधना गुप्ता जिनके एक बेटे हैं प्रतीक यादव , इनकी पत्नी का नाम अर्पणा यादव है

मुलायम सिंह यादव के पहले पत्नी से एक बेटे हैं। जिनका नाम अखिलेश यादव है। यह भी उत्तर प्रदेश की पूर्व प्रधानमंत्री रह चुके हैं। अखिलेश यादव के पत्नी का नाम डिंपल यादव है जो पूर्व सांसद रह चुकी हैं।

मुलायम सिंह यादव जीवन परिचय संक्षिप्त में

वास्तविक नाममुलायम सिंह यादव
उपनामनेता जी, मुलायम सिंह
पेशा राजनेता
जन्म तारीख 22 नवंबर 1939
जन्म स्थानसैफई, जिला इटावा, उत्तर प्रदेश (भारत)
पिता सुधीर सिंह यादव
मातामूर्ति देवी
भाईशिवपाल सिंह यादव, राजपाल सिंह यादव, रतन सिंह यादव, राम गोपाल यादव,अभय राम सिंह यादव
बहनकमला सिंह यादव
पत्नीमालती देवी (पहली पत्नी)
साधना गुप्ता ( दूसरी पत्नी
बच्चेअखिलेश यादव (पहली पत्नी से)
प्रतीक यादव ( दूसरी पत्नी से)

मुलायम सिंह यादव राजनीतिक परिवार

मुलायम सिंह यादव का परिवार काफी बड़ा है। उनके पांच भाई बहन जिनमें से अधिक राजनीतिक कार्य में जुड़े हुए हैं। इसके अलावा उनके बेटे अखिलेश यादव और उनके बहू डिंपल यादव की राजनीतिक कार्यों में शामिल है।

मुलायम सिंह यादव कई बार उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री रह चुके हैं और उनके बेटे अखिलेश यादव भी उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री रह चुके हैं। उनके परिवार में करीब 10 ऐसे सदस्य हैं जो राजनीतिक कार्यों में जुड़े हुए हैं।

मुलायम सिंह यादव राजनीतिक करियर (Political Carrier)

• महज 15 वर्ष की आयु में मुलायम सिंह यादव ने 1954 में जब फरुखाबाद में बढे हुए नहर रेट के विरोध में आन्दोलन हुआ जहां डॉ राम मनोहर लोहिया नेतृत्व में तब मुलायम सिंह यादव भी इस आन्दोलन में शामिल हुए थे.

• इस आंदोलन में शामिल होने के कारण मुलायम सिंह यादव को गिरफ्तार किया गया था।

• पहली बार मुलायम सिंह यादव साल 1967 में विधानसभा के सदस्य के रूप में चुने गए थे। इस चुनाव के लिए उन्हें संयुक्त सोशलिस्ट पार्टी की तरफ से टिकट मिली थी। और वह जसवंत नगर क्षेत्र से चुने गए थे।

• साल 1977 में पहली बार मुलायम सिंह यादव को उत्तर प्रदेश का राज्य मंत्री बनाया गया था।

• साल 1980 में वह कुछ दिन के लिए लोक दल के अध्यक्ष बने.

• 1982 से 1985 तक मुलायम सिंह यादव को उत्तर प्रदेश विधान परिषद में विपक्ष नेता के रूप में चुना गया था।

• 5 दिसंबर 1989 को उन्हें भारतीय जनता पार्टी के सहयोग से उत्तर प्रदेश का मुख्यमंत्री पद संभाले थे. वह पहली बार उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री बने.

• 1990 में UP का मुख्यमंत्री रहते समय मुलायम सिंह यादव ने विवादित बाबरी ढांचे को बचाने के लिए कारसेवकों पर गोली चलाने का आदेश दिया था, जिसमें 16 लोगों की जान चली गई थी और बहुत सारे लोग घायल हुए थे. इस वजह से बीजेपी ने मुलायम की सरकार से समर्थन वापस ले लिया, लेकिन कांग्रेस ने समर्थन देकर उनकी सरकार को बचा लिया.

• 1990 में वह जनता दल में शामिल हो गए थे. उस समय जनता दल के प्रमुख नेता चंद्रशेखर जी थे।

• फिर कांग्रेस भी उनसे समर्थन वापस लिए थे जिसके कारण उन्हें इस्तीफा देना पड़ा।

• मुलायम सिंह यादव 24 जनवरी 1991 तक उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री रहे.

• 1992 को मुलायम सिंह यादव ने अपना एक पार्टी गठन की जिसका नाम समाजवादी पार्टी रखा , जिसमें साइकिल पार्टी का प्रतीक चिन्ह रहा।

• मुलायम सिंह यादव समाजवादी पार्टी गठन करने के बाद उसके अगले साल 1993 को बहुजन समाज पार्टी के साथ मिलकर अपना पहला चुनाव लड़ा था।

• इस चुनाव में समाजवादी पार्टी को 109 सीट मिल कर जीत हासिल हुई और 67 सीटों पर जीत नसीब हुई. फिर भी इस गठबंधन को पूर्ण बहुमत नहीं मिल पाया.

• कांग्रेस और जनता दल के समर्थन से मुलायम सिंह यादव ने फिर से उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री बने.

• मुलायम सिंह यादव 5 दिसंबर 1993 से 3 जून 1995 तक उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री बने थे। बाद में बहुजन समाज पार्टी समर्थन वापस लेने के कारण उनका सरकार गिर गई थी।


• मुलायम ने उत्तर प्रदेश की मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा देने के बाद साल 1996 में मैनपुरी से लोकसभा का चुनाव लड़े और जीत प्राप्त की। फिर वह सरकार में रक्षा मंत्री के पद भी संभाले।


• 29 अगस्त 2003 को फिर से उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री बने। यह मुलायम सिंह यादव तीसरी बार मुख्यमंत्री बने थे। वह 11 मई 2007 तक उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री बने रहे।


• फिर 2007 का चुनाव हुआ वहां समाजवादी पार्टी को हार का सामना करना पड़ा और उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री बने मायावती ।


• इसके 5 साल बाद 2012 में फिर से विधानसभा चुनाव में समाजवादी पार्टी को बहुमत मिली और सरकार गठन किया.


• चुनाव में जीतने के बाद वह उधर प्रदेश के मुख्यमंत्री नहीं बने बल्कि उनके बेटे अखिलेश यादव को यूपी के मुख्यमंत्री बना दिया गया.


• साल 2014 में, मुलायम सिंह यादव ने 16 वीं लोकसभा चुनाव के दौरान दो सीटों आज़मगढ़, मैनपुरी से चुना लड़ा और जीत हासिल की.

लालू के विरोध में नहीं बन पाए प्रधानमंत्री

1993 में मुलायम सिंह यादव ने बहुजन समाज पार्टी के साथ मिलकर सरकार गठन की। मुलायम सिंह यादव दूसरी बार उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री बने। हालांकि आगे जाकर वह गठबंधन टूट गया था लेकिन 90 के दशक के मध्य में साल 1996 वह प्रधानमंत्री पद तक पहुंच गए थे लेकिन लालू यादव के विरोध हेतु  प्रधानमंत्री बन नहीं पाए. लेकिन 1996 से 1998 तक वह देश की रक्षा मंत्री रहे.

समाजवादी पार्टी की स्थापना (Samajwadi Party)

1991 में प्रधानमंत्री के पद से इस्तीफा देने के बाद साल 1992 में मुलायम सिंह यादव ने अपनी एक राजनीतिक पार्टी गठन की जिसका नाम समाजवादी पार्टी (Samajwadi Party)  रखा। उस समय उत्तर प्रदेश में जातिगत राजनीति जोर शोर से बोल रहा था। मुलायम सिंह ने पिछड़े वर्ग, ओबीसी और मुस्लिम वोटों का एक नया समीकरण बनाया, जिसकी काट उनके विरोधियों के पास नहीं था। इसके चलते इस पार्टी ने उत्तर प्रदेश में चार बार सरकार गठन किया। जिसमें से तीन बार नेताजी खुद मुख्यमंत्री रहे और चौथे बार अपने बेटे अखिलेश यादव को मुख्यमंत्री बनाया था । 

देश के रक्षा मंत्री बने मुलायम सिंह यादव

समाजवादी पार्टी स्थापना करने के बाद मुलायम ने अपनी अलग पहचान बनाया। देशभर में उन्हें बड़े-बड़े राजनीति के साथ अपना पहचान बनाया। इसके साथ समाजवादी पार्टी के कद भी बढ़ता गया। इसी कारण था कि वह राज्य की राजनीतिक कार्यों से भी ऊपर चले गए उन्हें साल 1996 में केंद्र सरकार में उन्हें रक्षा मंत्री पद संभालने के लिए दिया गया।

मुलायम सिंह यादव के विवादित बयान

  • 1990 – अयोध्‍या गोलीकांड
  • 1994 – रामपुर तिराहा गोलीकांड
  • 2009 में अंग्रेजी और कंप्यूटर शिक्षा को समाप्त करने को लेकर बात उठाई थी। उनका कहना था कि इससे बेरोजगारी बढ़ेगी। इस बयान से भी वह सुर्खियों में आए थे।
  • 2012 में मुलायम सिंह ने दिल्ली गैंग रेप (बलात्कार)   घटना के ऊपर एक बयान दिया, जिनमें वह कहे ”लड़के हैं, गलती हो जाती है” इस बयान से बहुत बड़ा विवाद हुआ था।  फिर ऐसे ही और एक मामले में विवाद उत्पन्न बयान दिया था , जिसके बाद संयुक्त राष्ट्र महासचिव ने इस बयान को गलत बताया था।

  • साल 2014 में मुजफ्फरनगर दंगे चल रहा था उस समय मुलायम सिंह यादव ने एक सामूहिक कार्यक्रम किया था जिसके वजह से उन्हें समालोचना की गई थी।

  • 2015 में मुलायम ने एक आईपीएस अधिकारी अमिताभ ठाकुर को धमकाने का मामला भी सामने आया था।

  • 2015 में फिर से एक भाषण देने के दौरान सामूहिक बलात्कारों को लेकर कुछ बातें बोल दी थी, वह कहते थे   “एक महिला के साथ चार पुरुष रेप कर ही नहीं सकते हैं. ऐसा संभव ही नहीं है.’ इस बयान देख कर बहुत बड़ी विवादों में फंसे थे।

अंतिम शब्द

आशा करता हूं आपको यह आर्टिकल पसंद आया होगा. ऐसे ही और जानकारियां के लिए हमारे दूसरे पोस्ट को भी जरूर विजिट कीजिए, और अपने दोस्तों और परिवार के साथ शेयर करना ना भूले.

FAQ

मुलायम सिंह यादव के बेटे का नाम क्या है ?

मुलायम सिंह यादव के दो बेटे हैं। उनका बड़ा बेटा अखिलेश यादव उत्तर प्रदेश के पूर्व प्रधानमंत्री रह चुके हैं और छोटा बेटा प्रतीक यादव जो एक बिजनेसमैन है।

मुलायम सिंह यादव कितने बार CM बने हैं?

मुलायम सिंह यादव तीन बार उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री पद संभाले है. साल 1989 में पहली बार यूपी के मुख्यमंत्री बने। इसके अलावा 1993 एवं 2003 में UP के मुख्यमंत्री पद संभाला था.

मुलायम सिंह यादव ने समाजवादी पार्टी की स्थापना कब की

मुलायम सिंह यादव ने समाजवादी पार्टी का स्थापना 1992 में किया और साइकिल इस पार्टी के प्रतीक चिन्ह रहा हैं।

मुलायम सिंह यादव के कौन सा बेटा मुख्यमंत्री बन चुके है?

मुलायम सिंह यादव उत्तर प्रदेश के दिग्गज राजनेताओं में से एक है। दो-तीन बार उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री बन चुके हैं। साल 2012 के चुनाव में जीतने के बाद उनके बेटे अखिलेश यादव को उत्तर प्रदेश का मुख्यमंत्री बनाया गया था।

मुलायम सिंह यादव के कितने पत्नी है

मुलायम सिंह ने दो शादियां की थी। उनके पहले पत्नी का नाम मालती देवी और दूसरे पत्नी का नाम साधना गुप्ता है।

Categories: BIOGRAPHY

0 Comments

Leave a Reply

Avatar placeholder

Your email address will not be published.