धौलीगिरी शांति स्तूप के बारे में पूरी जानकारी | धौलीगिरी घूमने जाने का सही समय..

Published by Jitu on

ओडिशा की राजधानी भुवनेश्वर से 8 किलोमीटर दूर दया नदी के किनारे स्थित है धौली गिरी हिल्स जहां सम्राट अशोक के कलिंग युद्ध क्षेत्रों के सबसे प्रसिद्ध  शांति स्तूप है। इस धौली हिल्स को कलिंग युद्ध का क्षेत्र कहा जाता है जहां कलिंग युद्ध संगठित हुआ था.

धौली हिल्स कहां है?


ओडिशा की बौद्ध विरासत के लोकप्रिय स्थलों में से एक धौली इंटरनेशनल पीस पैगोडा (शांति स्तूप) है, जो भुवनेश्वर के बाहरी इलाके में 8 किमी दक्षिण में स्थित है। दया नदी के किनारे धौली पहाड़ियों के ऊपर शांति स्तूप का निर्माण किया गया है।

santi stupa

धौली शांति स्तूप कब बनाया गया था

यह शांति स्तूप 261 ईसा पूर्व दया नदी के किनारे लड़े गए प्रसिद्ध कलिंग युद्ध को चिह्नित करने के लिए 1972 में कलिंग निप्पॉन संघ और ओडिशा सरकार के बीच एक सहयोगी परियोजना के रूप में बनाया गया था। यह कलिंग युद्ध सम्राट अशोक द्वारा जीता गया था, लेकिन जो रक्तपात हुआ था, उसने उसका हृदय बदल दिया और वह चंडा अशोक (भयंकर योद्धा) से धर्म अशोक (शांति प्रेमी) में परिवर्तित हो गए थे। सम्राट अशोक बाद में बौद्ध बन गए और उन्होंने बौद्ध धर्म को विदेशों में राज्यों में प्रचारित करना शुरू कर दिया।

धौली हिल्स कैसे पहुंच सकते हैं?

आप भूली हिल्स जाना चाहते हैं तो सर्दियों के मौसम में सबसे बेस्ट होगा। स्थानीय लोग और यात्रा विशेषज्ञ के सुझाव सर्दियों के मौसम यहां घूमने का सबसे अच्छा समय है।  गर्मियों में उड़ीसा में लगभग 40 डिग्री सेल्सियस से भी अधिक गर्मी पड़ती है । फिर भी आप गर्मियों में वहां जाना चाहते हैं तो आप सुबह या शाम को वहां आप आराम से घूम सकते हैं बीच के समय काफी चिलचिलाती गर्मी पड़ती है।

गर्मी के कारण आप अक्टूबर से फरवरी महीने के बीच की यात्रा आपको काफी सुखद देगी। आप यहां किसी भी मार्ग से आराम से पहुंच सकते हैं।

  • By Road

भुवनेश्वर और कटक जैसे पड़ोसी शहरों से यहां बसों से आराम से पहुंचा जा सकता है। यह स्थान मोटर  योग्य सड़क से अच्छी तरह जुड़ा हुआ है. धौली के आसपास के सभी स्थानों से आप ऑटो या रिक्शा से भी पहुंच सकते हैं।

  • Railway

धौलीगिरी के निकटतम रेलवे स्टेशन है भुवनेश्वर  रेलवे स्टेशन। ओडिशा के राजधानी होने के कारण भुवनेश्वर रेलवे स्टेशन भारत की मुख्य शहरों से अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है।भुवनेश्वर रेलवे स्टेशन और धौलीगिरी के बीच की दूरी लगभग 13.5 किमी है। स्टेशन से आपको आराम से बस या टैक्सी मिल जाएगी।

  • Flight

भुवनेश्वर में बीजू पटनायक अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा है जो धौली का निकटतम हवाई अड्डा है। हवाई अड्डे और धौली के बीच की दूरी सिर्फ 12.9KM है; इसलिए आपके गंतव्य तक पहुंचने में लगभग 30 मिनट लगेंगे। क्योंकि शहर में जाने आने सुविधा के लिए बस टैक्सी की सुविधाएं उपलब्ध है इसलिए आपको सटीक समय मैं धौलीगिरी पहुंच  सकते हैं.

धौली के हाथी

धौली में रॉक-कट हाथी सबसे पुराने स्मारकों में से एक है, जिसमें हाथी को पूर्व की ओर तराशा गया है। पत्थर को काटकर हाथी का मस्तक तरस आ गया है। शांति स्तूप से कुछ दूर स्थित है। बौद्ध धर्म में हाथी शांति का प्रतीक होता है, बुध से जुड़े होते हैं। इसलिए यहां हाथी पूजा की वस्तु है।

Categories: Famous Places

0 Comments

Leave a Reply

Avatar placeholder

Your email address will not be published.