सुनीता विलियम जीवन परिचय – {Space Heroine} | Astronaut Sunita Williams in HINDI.

Published by Dakshya on

Who is Sunita Williams,  क्या आपको पता है, सुनीता विलियम्स कौन है, नहीं. तो चलिए जानते हैं इस आर्टिकल में सुनीता विलियम जीवन परिचय के बारे में. भारतीय मूल के अमेरिकी अंतरिक्ष यात्री सुनीता विलियम अंतरिक्ष में सबसे ज्यादा दिन रहने का विश्व रिकॉर्ड बनाए है.

आज हम इस आर्टिकल में सुनीता विलियम से जुड़ी कुछ अनसुनी अनोखी बातें बताने जा रहे हैं। पहले सुनीता विलियम के जीवन के बारे में जानेंगे फिर उनकी उपलब्धियां के बारे में जानेंगे। क्या आपको पता है, सुनीता विलियम अमेरिकी एजेंसी नासा के माध्यम से अंतरिक्ष में जाने वाली भारतीय मूल के दूसरी महिला हैं।

सुनीता विलियम एक महिला अंतरिक्ष यात्री के रूप में 195 दिन तक अंतरिक्ष में रहने का विश्व रिकॉर्ड बनाए हैं। वह गुजरात के अहमदाबाद से संबंध रखते हैं। उनके पिता एक डॉक्टर है जो भारतीय मूल के हैं।

Sunita williams photo
Sunita williams

सुनीता विलियम जीवन परिचय – Biography of Sunita Williams in Hindi.

सुनीता विलियम, उनका पूरा नाम है सुनीता पांड्या विलियम। जिन्हें विवाह के बाद सुनीता माइकल जे. विलियम नाम से जाना जाने लगी। उनका जन्म 19 सितम्बर 1965 को अमेरिका के ओहियो राज्य में यूक्लिड नगर (स्थित क्लीवलैंड) में हुआ था।

सुनीता विलियम के माता का नाम बानी जालोकर पांड्या है और पीता  डॉक्टर दीपक एन. पांड्या है, जो पैसे में एक डॉक्टर है। और अमेरिका में रहते हैं। वह अपने माता-पिता की सबसे छोटी संतान थी।  हम आपको बता दें, उनके पिता गुजरात, अहमदाबाद (भारत) के निवासी है। वह 1958 में गुजरात से अमेरिका के वेस्टर्न शहर में बस गए थे।

नाम:सुनीता विलियम
वास्तविक नाम:सुनीता पांड्या विलियम (विवाह से पहले)
वास्तविक नाम:सुनीता माइकल जे. विलियम (विवाह के बाद)
प्रोफेशन (पेशा): नासा एस्ट्रोनॉट
जन्म तारीख:19 सितंबर 1965
जन्म स्थान:यूक्लिड नगर, ओहियो राज्य, अमेरिका
पिता:डॉ. दीपक एन. पांड्या
माता:बानी जालोकर पांड्या
भाई बहन:Dina Anna एवं Jay Thomas
जातीयता: अमेरिकन
धर्म: हिंदू
अवार्ड:पद्मभूषण, Congressional Space Medal Of Honor

उम्र

सुनीता विलियम की उम्र 57 वर्ष (2022 के अनुसार) है। वह 19 सितंबर 1965 को जन्म हुए थे।

शिक्षा

सुनीता विलियम ने अपनी हाई स्कूल की पढ़ाई मैसाचुसेट्स की। इसके बाद 1987 में उन्होंने संयुक्त राष्ट्र की नौसैनिक अकादमी से फिजिकल साइन्स में बीएस (ग्रेजुएशन) की परीक्षा पास की। फिर उन्होंने 1995 में फ़्लोरिडा इंस्टिट्यूट ऑफ़ टैक्नोलॉजी से इंजीनियरिंग मैनेजमेंट में एम.एस. की उपाधि प्राप्त की थी।

व्यक्तिगत जीवन

सुनीता विलियम्स का विवाह  माइकल जे विलियम्स से हुआ है, जो एक ओरेगॉन में एक संघीय पुलिस अधिकारी के रूप में कार्य करते हैं। सुनीता और माइकल जे विलियम्स की कोई संतान नहीं है। वह दोनों एक सुंदर कन्या को गोद लिए है, जो भारत केेेेे गुजरात राज्य से है।

वह एक फिटनेस फ्रीक है और उन्हें बाइक चलाना, दौड़ना, तैरना, ट्रायथलॉन, विंडसर्फिंग और स्नोबोर्डिंग पसंद है। सुनीता विलियम को हिंदू  भगवान गणेश के प्रति उनकी भक्ति के लिए भी जाना जाता है। अंतरिक्ष में जाने से पहले भगवान गणेश जी के और पढ़ने के लिए एक भागवत गीता लेकर गए थे।

करियर की शुरुआत

सुनीता विलियम ने अपने करियर की शुरुआत अमेरिकी नौसेना में  पोत चालक के रूप में की थी। फीर हेलीकाप्टर पायलट, परीक्षण पायलट, पेशेवर नौसैनिक, गोताखोर, तैराक, के रूप में अपनी कार्य अमेरिकी नौसेना के लिए दे चुके हैं।

  • अमेरिकी नौसेना में उनके करियर की शुरुआत 1987 से हुई। 6 महीने के बाद उन्हें बेसिक ड्राइविंग ऑफिसर के रूप में चुना गया।
  • साल 1989 में सुनीता विलियम को ‘नेवल एयर ट्रेनिंग कमांड’ भेज दिया गया जहाँ उन्हें ‘नेवल एविएटर के रूप में नियुक्त किया गया था । इसके बाद उन्होंने ‘हेलीकाप्टर कॉम्बैट सपोर्ट स्क्वाड्रन’ में ट्रेनिंग ली और कई विदेशी स्थानों पर तैनात हुईं।
  • सितंबर 1992 में सुनीता को सेना की एक टुकड़ी H-46 का ऑफिसर-इन-चार्ज बनाकर मिआमि (फ्लोरिडा) भेजा गया।
  • सुनीता विलियम ने 1993 के जनवरी महीने में  ‘यू.एस. नेवल टेस्ट पायलट स्कूल’ में अभ्यास प्रारंभ किया और 1 साल के भीतर ही यानी कि दिसम्बर महीने में अपना कोर्स पूरा कर लिया।
  • फिर उन्हें दिसम्बर 1995 को ‘यू.एस. नेवल टेस्ट पायलट स्कूल’ में ‘रोटरी विंग डिपार्टमेंट’ में प्रशिक्षक और स्कूल के सुरक्षा अधिकारी के तौर पर तैनात किया गया। वहां उन्होंने कई हेलीकॉप्टर को उड़ाई जिनमें से है, यूएच-60, ओएच-6 और ओएच-58 जैसे हेलिकॉपटर्स शामिल है।
  • जब 1998 में सुनीता को NASA के मिशन लिए चुना गया तब वे यूएसएस सैपान पर कार्य कर रहे थे।

नासा में करियर की शुरुआत.

• जून 1998 में सुनीता विलियम्स को नासा द्वारा अंतरिक्ष यात्री कार्यक्रम (astronaut program by NASA ) के लिए चुना गया था। और उनकी एस्ट्रोनॉट बनने की प्रशिक्षण उसी साल से शुरू हुई.

• उन्हें कठोर प्रशिक्षण दिया गया जिसमें कई वैज्ञानिक और तकनीकी ब्रीफिंग, शटल और अंतर्राष्ट्रीय अंतरिक्ष स्टेशन (ISS) प्रणालियों में गहन निर्देश और शारीरिक प्रशिक्षण शामिल थे।

• बहुत सारी प्रशिक्षण की अवधि के बाद उन्हें अंतरिक्ष स्टेशन में रूसी योगदान पर रूसी अंतरिक्ष एजेंसी के साथ काम करने के लिए मास्को भेजा गया और पहले अभियान दल के साथ। 9 दिसंबर 2006 में सुनीता को अंतरिक्षयान ‘डिस्कवरी‘ से ‘अंतरराष्ट्रीय अंतरिक्ष केंद्र’ भेज दिया गया जहां उन्हें एक्सपीडिशन-14 दल के साथ शामिल होना था.

• कुछ दिन बाद अप्रैल 2007 में रूस के अंतरिक्ष यात्री  बदले गए , जिसकी वजह से एक्सपीडिशन-14  से एक्सपीडिशन-15 हो गया.

• एक्सपीडिशन-14 और 15 के दौरान सुनीता विलियम ने तीन स्पेस वाक किए थे। 6 अप्रैल 2007 को उन्होंने अंतरिक्ष में ही ‘बोस्टन मैराथन’ में हिस्सा लिया। अंतरिक्ष में मैराथन में दौड़ने वाली वे पहली महिला बन गयीं। वह 4 घंटे 24 मिनट में अपनी मैराथन की दौड़ पूरी की थी। फिर 22 जून 2007 को वह पृथ्वी पर वापस लौट आए.

• जून 2007 में STS-117 के चालक दल के साथ कैलिफोर्निया के Edwards Air Force Base  पर लौटने से पहले एक विश्व कीर्तिमान स्थापित किए थे. उन्होंने अंतरिक्ष यान के बाहर कुल 29 घंटे से अधिक समय तक चार स्पेस वॉक किए, और अंतरिक्ष में 195 दिनों से भी अधिक समय बिताया जिससे ये विश्व रिकॉर्ड बन गया.


• उन्होंने फिर से 15 जुलाई 2012 में बैकोनुर कोस्मोड्रोम से आईएसएस के लिए उड़ान भरी, एक्सपीडिशन 32 पर एक फ्लाइट इंजीनियर के रूप में। उनका अंतरिक्ष यान सोयुज़ ‘अंतर्राष्ट्रीय अंतरिक्ष केंद्र’ से जुड़ गया।

• सुनीता विलियम को 17 सितंबर 2012 में अभियान 33 की कमांडर बना दिया गया और इस मिशन के दौरान वह 21 घंटे से अधिक समय में तीन और स्पेसवॉक किए थे।


•  उसने पृथ्वी पर दक्षिणी कैलिफोर्निया में आयोजित नौटिका मालिबू ट्रायथलॉन के साथ संयोग करते हुए, ट्रेडमिल का उपयोग करके कक्षा में एक ट्रायथलॉन पूरा करके इतिहास रच दिया।


• नवंबर 2012 में पृथ्वी पर लौटने से पहले उन्होंने लगभग 127 दिन अंतरिक्ष में रहे थे।


• 19 नवम्बर 2012 को सुनीता विल्लिअम्स पृथ्वी पर वापस लौट आयीं।1998 से नासा से जुड़ी सुनीता ने अभी तक कुल 30 अलग-अलग अंतरिक्ष यानों में 2770 उड़ानें भरी हैं।

सुनीता विलियम से जुड़ी महत्वपूर्ण वर्ष

जन्म तारीखउन्हें सितंबर 1965
1983नीधम हाई स्कूल से स्नातक किया
1987यूनाइटेड स्टेट्स नेवल एकेडमी से बैचलर ऑफ साइंस की डिग्री हासिल की और यूनाइटेड स्टेट्स नेवी में एक जगह बनाई
1989लड़ाकू हेलीकाप्टर प्रशिक्षण शुरू किया
1992तूफान एंड्रयू के दौरान राहत मिशन में सेवा दी
1995फ्लोरिडा इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी से इंजीनियरिंग मैनेजमेंट में मास्टर ऑफ साइंस की डिग्री हासिल की
1998अंतरिक्ष यात्री प्रशिक्षण में प्रवेश किया
2006एसटीएस-116 मिशन पर अंतरिक्ष यान डिस्कवरी पर आईएसएस . के लिए उड़ान भरी
2012अभियान 32/33 . में भाग लिया

FAQ

Q. सुनीता विलियम क्यों इतनी फेमस है

सुनीता विलियम भारतीय मूल के एक अमेरिकन अंतरिक्ष यात्री हैं। वह अंतरराष्ट्रीय स्पेस स्टेशन में 321 दिन बिताए है और दूसरे ऐसे महिला बनी जो अंतरराष्ट्रीय पेश सेंटर में अधिक समय बिताए है। वह 195 दिन अंतरिक्ष में बिताने का विश्व रिकार्ड भी बनाए हैं।

Q. सुनीता विलियम की उम्र कितनी है?

सुनीता विलियम की उम्र 57 वर्ष है। वह 19 सितंबर 1965 को जन्मे हुए थे।

Q. सुनीता विलियम का जन्म कब हुआ था?

सुनीता विलियम का जन्म 19 सितंबर 1965 को अमेरिका के ओहियो राज्य में यूक्लिड नगर (स्थित क्लीवलैंड) में हुआ था.

Categories: BIOGRAPHY

0 Comments

Leave a Reply

Avatar placeholder

Your email address will not be published.